A father, shamed by his daughter’s elopement, calls

Phone rings. I answer the call. The man on the other side is father of a minor (under 18) girl who recently went missing and was rescued after intervention of top government agencies. I reported the case (please don’t ask me which case exactly). The girl is staying in a government shelter and is yet to reach her native state. If a minor girl elopes with a man, the law treats it as kidnapping and a sexual crime.

‘नमस्ते xxxx जी. सब ठीक?

‘जी. आप बुरा मत मानिएगा पर हम बहुत परेशान थे तो फ़ोन घुमा दिए’

‘हाँ जी, बताइए ना’

‘बेटी मिल गयी है पर मन में आ रहा है मिलने पर उसका गला घोंट दें’

‘अरे बाप रे. कैसी बात कर रहे हैं. ऐसा सोचिए भी मत. ये ख़याल दिमाग़ से बिलकुल निकाल दीजिए. सब पहले जैसा हो जाएगा. कुछ नहीं बिगाड़ है.’

‘…….’

‘आप सुन रहे हैं ना? कुछ नहीं करेंगे आप ऐसा. हम मिलकर लड़की को पढ़ाएँगे, कुछ बनाएँगे. वैसे पढ़ने में कैसी है वो?’
‘पढ़ाई में मन नहीं है’

‘कोई बात नहीं. कुछ सिखा देंगे. सिलाई बुनाई. वापस आएगी तो उससे डाँटना मत. समझाना. बच्ची ही तो है’

‘जी. ठीक है’

Phone disconnects.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s